Durga Chalisa PDF | दुर्गा चालीसा हिंदी में अर्थ के साथ। Durga Chalisa PDF Free Download

दोस्तों आज के इस लेख में Durga Chalisa PDF के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है। जिस का पीडीऍफ़ आप निचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं। दुर्गा चालीसा देवी दुर्गा को समर्पित एक भक्ति भजन है, जो हिंदू धर्म में दिव्य शक्ति, सुरक्षा और शक्ति का अवतार हैं। 40 छंदों (हिंदी में चालीसा का अर्थ “चालीस” होता है) से बना यह भजन दुर्गा की विभिन्न विशेषताओं और शक्तियों का गुणगान करता है और उनके आशीर्वाद का आह्वान करता है। 

दुर्गा चालीसा का जाप करने के लाभ:

सुरक्षा का आह्वान: दुर्गा चालीसा का नियमित पाठ नकारात्मक ऊर्जाओं, बाधाओं और प्रतिकूलताओं के खिलाफ देवी दुर्गा की दिव्य सुरक्षा का आह्वान करता है।

साहस और शक्ति को बढ़ावा देना: यह भजन भक्त में साहस, शक्ति और दृढ़ संकल्प पैदा करता है, जिससे उन्हें जीवन में चुनौतियों पर काबू पाने में मदद मिलती है।

दुख दूर करना: ऐसा माना जाता है कि दुर्गा चालीसा का जाप करने से देवी दुर्गा की कृपा का आह्वान करके शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के दुखों को कम करने में मदद मिलती है।

आध्यात्मिक विकास प्राप्त करना: दुर्गा चालीसा के छंदों का ध्यान करने से व्यक्ति आध्यात्मिक विकास का अनुभव कर सकता है, जिससे आंतरिक शांति और सद्भाव प्राप्त होता है।

देवी का आशीर्वाद: भक्त इस भजन का जाप करके सफलता, समृद्धि और इच्छाओं की पूर्ति के लिए देवी दुर्गा का आशीर्वाद मांगते हैं।

 

दुर्गा चालीसा का जाप करने की प्रक्रिया:

शुद्धिकरण: स्नान या स्नान के माध्यम से खुद को शुद्ध करके शुरू करें। अपनी आध्यात्मिक साधना के लिए समर्पित एक स्वच्छ और शांतिपूर्ण स्थान पर बैठें।

गुरु वंदना: अपने आध्यात्मिक शिक्षक (गुरु) को श्रद्धांजलि अर्पित करें और जाप के लिए उनका आशीर्वाद लें।

आह्वान: अपनी आँखें बंद करें और देवी दुर्गा पर थोड़ा ध्यान करें, उनके दिव्य रूप की कल्पना करें। उनकी उपस्थिति और आशीर्वाद का आह्वान करें।

जप: दुर्गा चालीसा के प्रत्येक श्लोक को भक्ति और स्पष्टता के साथ पढ़ें। जोर से जप करना फायदेमंद है, लेकिन आप जरूरत पड़ने पर मानसिक रूप से भी पढ़ सकते हैं।

एकाग्रता: जप करते समय प्रत्येक श्लोक के अर्थ और महत्व पर ध्यान केंद्रित रखें। भक्ति और श्रद्धा को अपने दिल में भरने दें।

अर्पण : आप जप के दौरान देवी दुर्गा को प्रतीकात्मक प्रसाद के रूप में फूल, धूप या दीपक जला सकते हैं।

निष्कर्ष: जप पूरा करने के बाद, देवी दुर्गा के आशीर्वाद और सुरक्षा के लिए उनका आभार व्यक्त करें।

प्रार्थना और समर्पण: सभी प्राणियों की भलाई के लिए प्रार्थना करें और अपने जप के पुण्य को मानवता के लाभ के लिए समर्पित करें।

चिंतन: जप के दौरान आह्वान की गई दिव्य ऊर्जा को अवशोषित करते हुए, कुछ क्षण मौन चिंतन में बिताएं।

नियमित अभ्यास: दुर्गा चालीसा का जप अपने आध्यात्मिक अभ्यास का नियमित हिस्सा बनाएं। इसे अक्सर प्रतिदिन जप किया जाता है, खासकर नवरात्रि (देवी दुर्गा को समर्पित नौ रातें) की शुभ अवधि के दौरान।

 

maa baap ki dukhbhari kahani 

 

Durga Chalisa श्लोक अर्थ के साथ 

नमो नमो दुर्गे सुख करनी:

यह पंक्ति दुर्गा के प्रति श्रद्धा व्यक्त करती है, उन्हें सुख और कल्याण प्रदान करने वाली मानती है।

नमो नमो अम्बे दुख हरणी:

यह दुर्गा को अम्बे के रूप में श्रद्धांजलि देता है, जो दुख और संकट को दूर करती है।

निराकार है ज्योति तुम्हारी:

दुर्गा को एक निराकार दिव्य प्रकाश के रूप में संबोधित किया जाता है।

तिहुँ लोक फैली उजयारी:

दुर्गा के प्रकाश को तीनों लोकों – भौतिक, सूक्ष्म और कारण – को प्रकाशित करने वाला कहा जाता है।

शशि लालात मुख महा विशाला:

यह पंक्ति दुर्गा के भौतिक स्वरूप का वर्णन करती है, उनके चेहरे की तुलना चंद्रमा से करती है और इसकी विशालता पर जोर देती है।

नेत्र लाल भृकुटी विकराला:

दुर्गा की आँखें गुड़हल के फूल की तरह लाल बताई जाती हैं, और उनकी निगाहें डरावनी बताई जाती हैं।

रूप मातु को अधिका सुहावे:

दुर्गा की सुंदरता की प्रशंसा अन्य सभी देवियों से बढ़कर की जाती है।

दर्शन कराता जन अति सुख पावे:

जो लोग दुर्गा का दर्शन करते हैं, उन्हें अपार आनंद का अनुभव होता है।

तुम संसार शक्ति लाया कीना:

इसमें दुर्गा को ब्रह्मांडीय ऊर्जा की निर्माता के रूप में स्वीकार किया गया है जो ब्रह्मांड को बनाए रखती है।

पालन हेतु अन्न धन दीना:

दुर्गा की प्रशंसा जीवन को बनाए रखने के लिए भोजन और पोषण प्रदान करने के लिए की जाती है।

अन्नपूर्णा हुई जग पाला:

इस पंक्ति में दुर्गा को अन्नपूर्णा, भोजन की देवी के रूप में संदर्भित किया गया है, जो दुनिया का पोषण करती हैं।

तुम्हीं आदि सुंदरी बाला:

दुर्गा को सभी सुंदरता और शक्ति का मूल स्रोत माना जाता है।

प्रलय काल सब नसीनहारो:

ब्रह्मांडीय विघटन के समय दुर्गा सभी चीजों का नाश करने वाली हैं।

संकट से हनुमान चुरावे:

इसमें हनुमान को संदर्भित किया गया है, जो दुर्गा की कृपा से भक्तों को परेशानियों और प्रतिकूलताओं से बचाते हैं।

मन क्रम वचन ध्यान जो लावे:

जो लोग अपने मन, कर्म और वचन से दुर्गा का ध्यान करते हैं…

सब पर राम तपस्वी राजा:

भगवान राम, तपस्वी राजा, सभी पर सर्वोच्च के रूप में चित्रित किए गए हैं।

तीन के काज सकल तुम सजा:

दुर्गा वह है जो राम के सभी कार्यों का ध्यान रखती है।

मनोरथ जो कोई लावे:

दुर्गा उन लोगों की इच्छाओं को पूरा करती हैं जो अन्य उद्देश्यों के साथ भी उनके पास आते हैं।

तासु अमित जीवन फल पावे:

भक्त दुर्गा की पूजा करके जीवन का अनंत फल प्राप्त करते हैं।

चारों युग परताप तुम्हारा:

दुर्गा की महिमा चारों युगों में जानी जाती है।

है परसिद्धि जगत उजियारा:

उनकी प्रसिद्धि पूरे संसार को प्रकाशित करती है।

साधु संत के तुम राखवारे:

दुर्गा संतों और ऋषियों की रक्षक हैं।

असुर निकंदन राम दुलारे:

वह भगवान राम की प्रिय और राक्षसों का नाश करने वाली हैं।

अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता:

दुर्गा आठ सिद्धियाँ (आध्यात्मिक शक्तियाँ) और नौ निधियाँ प्रदान करती हैं।

आसा बर दीन जानकी माता:

भक्त माता जानकी (सीता) की तरह अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए दुर्गा से प्रार्थना करते हैं।

राम रसायन तुम्हारे पास:

दुर्गा के पास राम की भक्ति है।

सदा रहो रघुपति के दास:

हम हमेशा भगवान राम के सेवक बने रहें।

तुम्हारे भजन राम को पावे:

दुर्गा की पूजा से राम की भक्ति प्राप्त होती है।

जनम जनम के दुख बिसरावे:

कई जन्मों के सभी दुख भूल जाते हैं।

अंत काल रघुवर पुर जाई:

अंत में, व्यक्ति भगवान राम के निवास पर जाता है।

जहाँ जन्म हरि भक्त कहाई:

जहाँ कोई भगवान हरि (राम) का भक्त बनकर जन्म लेता है।

और देवता चिंतन धारे:

अन्य देवताओं को केवल स्मरण किया जाता है। हनुमत सेई सर्व सुख का नाई: केवल हनुमान के माध्यम से ही सभी सुख प्राप्त किए जा सकते हैं।

संकट कटै मिटे सब पीराः

सारे संकट और दुख दूर हो जाते हैं।

जो सुमिरे हनुमत बल बीरा:

जो लोग शक्तिशाली हनुमान को याद करते हैं।

जय जय जय हनुमान गोसाईं:

विजय, विजय, विजय भगवान हनुमान की।

कृपा करहु गुरुदेव की नाई:

हे गुरु, मुझ पर अपनी कृपा करो।

जो सात बार पाठ कर कोई:

जो कोई इस चालीसा का पाठ करेगा…

छूटहि बंदी महा सुख होई:

वह बंधन से मुक्त हो जाएगा और महान सुख प्राप्त करेगा।

यहां पढ़े हनुमान चालीसा:

जो कोई भी इस हनुमान चालीसा को पढ़ता है…

होय सिद्धि साखी गौरीसा:

भगवान शिव के आशीर्वाद से सफलता प्राप्त होगी।

तुलसीदास सदा हरि चेराः

तुलसीदास सदैव भगवान हरि के सेवक रहते हैं।

कीजे नाथ हृदये महा डेराः

हे प्रभु, मेरे हृदय में अपना निवास बना लो। 

Durga Chalisa PDF

 

दुर्गा चालीसा के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ):

 

दुर्गा चालीसा क्या है?

दुर्गा चालीसा देवी दुर्गा को समर्पित 40 छंदों वाला एक भक्ति भजन है। इसमें उनके दिव्य गुणों, कारनामों और शक्तियों की प्रशंसा की गई है।

दुर्गा चालीसा का जाप करने का क्या महत्व है?

दुर्गा चालीसा का जाप करने से देवी दुर्गा का आशीर्वाद मिलता है, जो सुरक्षा, साहस और शक्ति प्रदान करता है। ऐसा माना जाता है कि यह दुखों को कम करता है, इच्छाओं को पूरा करता है और आध्यात्मिक विकास को बढ़ावा देता है।

मुझे दुर्गा चालीसा का जाप कब करना चाहिए?

दुर्गा चालीसा का जाप किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन यह नवरात्रि के दौरान विशेष रूप से शुभ होता है, जो देवी दुर्गा को समर्पित नौ दिवसीय त्योहार है। कई लोग अपनी आध्यात्मिक साधना के हिस्से के रूप में इसे रोजाना भी जपते हैं।

मुझे कितनी बार दुर्गा चालीसा का जाप करना चाहिए?

प्रतिदिन दुर्गा चालीसा का जाप करना लाभकारी है, लेकिन आप इसे अपनी दिनचर्या और भक्ति के आधार पर जितनी बार चाहें उतनी बार भी कर सकते हैं।

क्या कोई भी दुर्गा चालीसा का जाप कर सकता है?

हां, कोई भी व्यक्ति उम्र, लिंग या पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना दुर्गा चालीसा का जाप कर सकता है। यह देवी दुर्गा का आशीर्वाद पाने वाले सभी भक्तों के लिए खुला है।

Durga Chalisa PDF कैसे डाउनलोड करें ? 

Durga Chalisa PDF को आप www.pdfsewa.in वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं।

 

Also Read – 

Tarak Mantra PDF | तारक मंत्र PDF Free Download | Tarak Mantra PDF Hindi

Ganesh Ji Ki Aarti PDF | गणेश जी की आरती PDF | Free Download Ganesh AArti PDF

Leave a Comment