Ganesh Ji Ki Aarti PDF | गणेश जी की आरती PDF | Free Download Ganesh AArti PDF

दोस्तों आज की पोस्ट में आपको ” Ganesh Ji Ki Aarti PDF ” फ्री में देने वाला हु। जिसे आप अपने मोबाइल में डाउनलोड करके आसानी से पढ़ सकते हो।

हिंदू धर्म में भगवान गणेश बाधाओं को दूर करने वाले और नई शुरुआत के देवता के रूप में एक विशेष स्थान रखते हैं। गणेश जी की आरती, जिसे “सुखकर्ता दुखहर्ता” के नाम से भी जाना जाता है, भगवान गणेश की स्तुति में गाया जाने वाला एक भक्ति गीत है। आरती हिंदू पूजा का एक अभिन्न अंग है, जो देवता को प्रकाश, ध्वनि और सुगंध अर्पित करने का प्रतीक है।

Table of Contents

आरती का अर्थ और महत्व

आरती पूजा की एक रस्म है जिसमें देवता के सामने एक दीपक या मोमबत्ती लहराई जाती है। “आरती” शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है, जिसका अर्थ है “अंधकार को दूर करने वाली।” यह देवता के प्रति भक्त की श्रद्धा और कृतज्ञता का प्रतीक है।

गणेश जी की आरती का इतिहास

गणेश जी की आरती की उत्पत्ति का पता प्राचीन काल से लगाया जा सकता है। माना जाता है कि इसकी रचना 16वीं शताब्दी में संत तुलसीदास ने की थी। पिछले कुछ वर्षों में, आरती के बोल और धुन क्षेत्रीय रीति-रिवाजों और सांस्कृतिक प्रभावों के अनुसार अलग-अलग हो गए हैं।

गणेश जी की आरती के बोल

गणेश जी की आरती के बोल बहुत ही अर्थपूर्ण हैं, जो भगवान गणेश की स्तुति करते हैं और उनका आशीर्वाद मांगते हैं।

जय गणेश जय गणेश,

जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती,

पिता महादेवा ॥

 

एक दंत दयावंत,

चार भुजा धारी ।

माथे सिंदूर सोहे,

मूसे की सवारी ॥

 

जय गणेश जय गणेश,

जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती,

पिता महादेवा ॥

 

पान चढ़े फल चढ़े,

और चढ़े मेवा ।

लड्डुअन का भोग लगे,

संत करें सेवा ॥

 

जय गणेश जय गणेश,

जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती,

पिता महादेवा ॥

 

अंधन को आंख देत,

कोढ़िन को काया ।

बांझन को पुत्र देत,

निर्धन को माया ॥

 

जय गणेश जय गणेश,

जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती,

पिता महादेवा ॥

 

‘सूर’ श्याम शरण आए,

सफल कीजे सेवा ।

माता जाकी पार्वती,

पिता महादेवा ॥

 

जय गणेश जय गणेश,

जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती,

पिता महादेवा ॥

यह श्लोक भगवान गणेश की महिमा करता है, उन्हें खुशी देने वाला और बाधाओं को दूर करने वाला बताता है।

Family Hindi Story

 

गणेश जी की आरती के लोकप्रिय रूप

गणेश जी की आरती भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न रूपों में गाई जाती है। प्रत्येक संस्करण की अपनी अनूठी धुन और शैली होती है, जो स्थानीय परंपराओं और संगीत वरीयताओं से प्रभावित होती है।

गणेश जी की आरती करने की प्रक्रिया

आरती अनुष्ठान में कई चरण शामिल हैं। भक्त दीपक या मोमबत्ती जलाकर, फूल चढ़ाकर और अगरबत्ती की व्यवस्था करके आरती की तैयारी करते हैं। भगवान के सामने दीपक जलाकर आरती की जाती है और आरती का स्तोत्र गाया जाता है।

हिंदू रीति-रिवाजों में गणेश जी की आरती का महत्व

गणेश जी की आरती हिंदू पूजा का एक अनिवार्य हिस्सा है, जो घरों और मंदिरों में प्रतिदिन की जाती है। ऐसा माना जाता है कि यह भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त करती है, जिससे भक्तों को समृद्धि और सफलता मिलती है।

त्यौहारों और समारोहों में गणेश जी की आरती

गणेश चतुर्थी जैसे त्यौहारों के दौरान, आरती काफ़ी भव्य होती है। भक्तगण पारंपरिक संगीत और नृत्य के साथ आरती गाने और करने के लिए बड़ी संख्या में इकट्ठा होते हैं। आरती अन्य समारोहों और धार्मिक समारोहों का भी एक अभिन्न अंग है।

गणेश जी की आरती का भक्ति पहलू

भक्तों के लिए, गणेश जी की आरती गाना भक्ति और समर्पण का कार्य है। यह देवता के साथ एक गहरा संबंध बनाता है, शांति और आध्यात्मिक पूर्णता की भावना पैदा करता है।

हिंदू संस्कृति पर गणेश जी की आरती का प्रभाव

गणेश जी की आरती ने कला, संगीत और साहित्य सहित हिंदू संस्कृति के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित किया है। इसे अक्सर धार्मिक ग्रंथों, चित्रों और मूर्तियों में दर्शाया जाता है, जो दैनिक जीवन में इसके महत्व को दर्शाता है।

आरती पर वैज्ञानिक दृष्टिकोण

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से, आरती के अभ्यास के मनोवैज्ञानिक लाभ हैं। यह प्रतिभागियों के बीच शांति और सकारात्मकता की भावना पैदा करता है, समुदाय के भीतर एकता और अपनेपन की भावना को बढ़ावा देता है।

निष्कर्ष

गणेश जी की आरती हिंदू धर्म में अत्यधिक आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्व रखती है। अपने मधुर छंदों और गहन प्रतीकात्मकता के माध्यम से, यह भक्तों के लिए भगवान गणेश से जुड़ने और उनका आशीर्वाद लेने का एक माध्यम है। चाहे किसी भव्य मंदिर में किया जाए या किसी साधारण घर में, गणेश जी की आरती दुनिया भर में लाखों श्रद्धालुओं के बीच आस्था और भक्ति को प्रेरित करती है। आपको ganesh ji ki aarti pdf का लिंक ऊपर दिया गया है जिसकी मदद से आप इसे डाउनलोड कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

गणेश जी की आरती करने का सबसे अच्छा समय क्या है?

आरती आमतौर पर सुबह और शाम को की जाती है, लेकिन इसे दिन के किसी भी समय किया जा सकता है।

क्या गैर-हिंदू आरती में भाग ले सकते हैं?

हां, आरती पूजा का एक ऐसा रूप है जो धार्मिक पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना सभी के लिए खुला है।

क्या आरती करने के कोई विशेष नियम हैं?

हालांकि पारंपरिक प्रथाएं हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण पहलू ईमानदारी और भक्ति है।

आरती करने वाले को क्या लाभ होता है?

आरती आंतरिक शांति, सकारात्मकता और ईश्वर से जुड़ाव की भावना लाती है।

क्या गणेश जी की आरती घर पर गाई जा सकती है?

बिल्कुल, कई परिवार अपने पूजा अनुष्ठानों के हिस्से के रूप में प्रतिदिन आरती करते हैं।

 Ganesh Ji Ki Aarti PDF को कैसे डाउनलोड करें ?

आप Ganesh Ji Ki Aarti PDF को pdfsewa.in वेबसाइट से फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं। 

Also Read – 

Surya Chalisa PDF Hindi Free Download श्री सूर्य चालीसा

हरतालिका तीज व्रत कथा pdf download|Hartalika Teej Vrat Katha PDF Free

Leave a Comment