Shiv Chalisa In Hindi Pdf | शिव चालीसा हिंदी में | Shiv Chalisa PDF Free Download | शिव चालीसा के 40 छंद

दोस्तों अगर आप Shiv Chalisa In Hindi Pdf को गूगल पर खोज रहे है तो आपको इस पोस्ट के निचे Shiv Chalisa In Hindi Pdf का लिंक दिया गया है जिसे आप फ्री में अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड कर सकते हैं। हिंदू धर्म में, विभिन्न देवताओं के प्रति भक्ति प्रार्थना, भजनों और मंत्रों के माध्यम से व्यक्त की जाती है। भगवान शिव को समर्पित ऐसी ही एक पूजनीय प्रार्थना है शिव चालीसा,जिसके पढ़ने से भगवन शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। 

 

Table of Contents

उत्पत्ति और इतिहास

 

चालीस छंदों (हिन्दी में चालीस) से बनी शिव चालीसा की उत्पत्ति सोलहवीं शताब्दी में मानी जाती है। यह ऋषि गोस्वामी तुलसीदास द्वारा लिखा गया था, जो प्रसिद्ध रामचरितमानस के लेखक भी हैं। शिव चालीसा ने भगवान शिव और उनके गुणों की प्रशंसा करने वाले एक भक्ति भजन के रूप में भक्तो के बीच बहुत अधिक लोकप्रियता हासिल की है। 

 

संरचना और सामग्री

 

शिव चालीसा की प्रत्येक पंक्ति भगवान शिव की स्तुति और आशीर्वाद का आह्वान करने के लिए बनाई गई है। छंदों को इस तरह से संरचित किया गया है कि वे भगवान शिव के गुणों, कार्यों और अभिव्यक्तियों का वर्णन करते हैं, जिससे पाठक में भक्ति और श्रद्धा की भावना पैदा होती है।

 

भक्ति अभ्यास

भक्त गहरी आस्था और भक्ति के साथ शिव चालीसा का पाठ करते हैं, भक्त अपनी दैनिक प्रार्थनाओं के हिस्से के रूप में या शिवरात्रि जैसे विशेष अवसरों के दौरान शिव चालीसा का अधिक गान करते है। ऐसा माना जाता है कि चालीसा का लयबद्ध पाठ करने से भगवान शिव के साथ उनका आध्यात्मिक संबंध बनाता है और भक्त को शांति और संतुष्टि प्रदान करता है।

 

हिंदू धर्म में महत्व

 

भगवान शिव हिंदू पौराणिक कथाओं में त्रिमूर्ति, सृजन, रखरखाव और विनाश के तीन प्रमुख देवताओं में से एक के रूप में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। शिव चालीसा भगवान शिव की पूजा में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, इसके पाठ से शिव भक्तो को आनंद और भक्ति का भाव पैदा होता है। 

 

शिव चालीसा का पाठ करने के लाभ

 

ऐसा माना जाता है कि शिव चालीसा का पाठ करने से भक्त को विभिन्न आशीर्वाद मिलते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह मन की शांति लाता है, कष्ट कम करता है और आध्यात्मिक विकास प्रदान करता है। मार्गदर्शन, शक्ति और नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा के लिए भक्त अक्सर शिव चालीसा की ओर रुख करते हैं। 

 

लोकप्रिय संस्करण

शिव चालीसा का मूल संस्करण गोस्वामी तुलसीदास द्वारा लिखा गया था, इसके कई अन्य संस्करण विभिन्न भाषाओं और शैलियों में उपलब्ध हैं। ये विविधताएँ दुनिया भर में हिंदू भक्तों की भाषाई और सांस्कृतिक विविधता को पूरा करती हैं। आज भी भक्त महान कवि तुलसीदास के द्वारा रचित शिव चालीसा को अधिक पढ़ना पसंद करते हैं। 

 

अनुवाद 

 

सदियों से, शिव चालीसा का विभिन्न भाषाओं में अनुवाद किया गया है, जिससे विभिन्न क्षेत्रों के लोगों को इसके दिव्य छंदों से जुड़ने का मौका मिला है। प्रत्येक अनुवाद भक्तो को ध्यान में रख कर बनाया गया है ताकि भक्तो क उसे समझने में दिक्कत न हो, जो भक्त के आध्यात्मिक अनुभव को समृद्ध करता है।

 

भक्तों पर प्रभाव

 

अनगिनत भक्तों ने शिव चालीसा के पाठ के माध्यम से गहन आध्यात्मिक जागृति और दिव्य हस्तक्षेप के अपने अनुभव साझा किए हैं। चमत्कारों और आशीर्वादों की कहानियाँ प्रचुर मात्रा में हैं, जो भगवान शिव की कृपा की शक्ति में विश्वास को मजबूत करती हैं।

 

अन्य भक्ति ग्रंथों से तुलना

 

हालाँकि भगवान शिव को समर्पित कई प्रार्थनाएँ हैं, शिव चालीसा उनके दिव्य गुणों के संक्षिप्त लेकिन व्यापक चित्रण के लिए जाना जाता है। यह विभिन्न देवताओं को समर्पित अन्य चालीसाओं के साथ समानताएं साझा करता है लेकिन भगवान शिव पर अपना विशिष्ट ध्यान केंद्रित रखता है।

 

आधुनिक संदर्भ में शिव चालीसा

 

आज की तेज़-तर्रार दुनिया में, शिव चालीसा लाखों भक्तों के लिए सांत्वना और शक्ति के स्रोत के रूप में प्रासंगिक बनी हुई है। उन्नति के आगमन के साथ, चालीसा अब विभिन्न डिजिटल प्रारूपों में उपलब्ध है, जिससे यह वैश्विक दर्शकों के लिए आसानी से उपलब्ध हो गया है। आज ये ऑनलाइन ,ऑफलाइन दोनों माध्यम में उपलब्ध है। जिसे भक्त अपनी सुविधा के अनुसार पढ़ सकते हैं। 

 

प्रसिद्ध मंदिर एवं तीर्थ स्थल

 

भगवान शिव को समर्पित मंदिर, जैसे वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर और गुजरात में सोमनाथ मंदिर, दुनिया भर से भक्तों को आकर्षित करते हैं। ये पवित्र स्थल आध्यात्मिक साधकों और तीर्थयात्रियों के लिए केंद्र बिंदु के रूप में काम करते हैं।

 

सांस्कृतिक प्रभाव

 

शिव चालीसा का प्रभाव धार्मिक सीमाओं से परे, भारतीय संस्कृति के विभिन्न पहलुओं में व्याप्त है। इसने शास्त्रीय संगीत रचनाओं, भक्ति कला और साहित्यिक कार्यों को प्रेरित किया है, जिससे देश की सांस्कृतिक विरासत समृद्ध हुई है।

 

सीखना और याद रखना

 

कई भक्त आध्यात्मिक अनुशासन के रूप में शिव चालीसा को याद करने का कार्य करते हैं। याद रखने की सुविधा और पाठ में सटीकता सुनिश्चित करने के लिए दोहराव, जप और स्मरणीय उपकरणों जैसी विभिन्न विधियों का उपयोग किया जाता है। याद हो जाने से भक्त इसका पाठ कही भी और कभी भी कर सकते हैं। 

Shiv Chalisa In Hindi Lyrics 

||दोहा||  

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान ॥

 ||चौपाई||

जय गिरिजा पति दीन दयाला ।
सदा करत सन्तन प्रतिपाला ॥

भाल चन्द्रमा सोहत नीके ।
कानन कुण्डल नागफनी के ॥

अंग गौर शिर गंग बहाये ।
मुण्डमाल तन क्षार लगाए ॥

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे ।
छवि को देखि नाग मन मोहे ॥

मैना मातु की हवे दुलारी ।
बाम अंग सोहत छवि न्यारी ॥

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे ।
सागर मध्य कमल हैं जैसे ॥

कार्तिक श्याम और गणराऊ ।
या छवि को कहि जात न काऊ ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा ।
तब ही दुख प्रभु आप निवारा ॥

किया उपद्रव तारक भारी ।
देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी ॥

तुरत षडानन आप पठायउ ।
लवनिमेष महँ मारि गिरायउ ॥

आप जलंधर असुर संहारा ।
सुयश तुम्हार विदित संसारा ॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई ।
सबहिं कृपा कर लीन बचाई ॥

किया तपहिं भागीरथ भारी ।
पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी ॥

दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं ।
सेवक स्तुति करत सदाहीं ॥

वेद नाम महिमा तव गाई।
अकथ अनादि भेद नहिं पाई ॥

प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला ।
जरत सुरासुर भए विहाला ॥

कीन्ही दया तहं करी सहाई ।
नीलकण्ठ तब नाम कहाई ॥

पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा ।
जीत के लंक विभीषण दीन्हा ॥

सहस कमल में हो रहे धारी ।
कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी ॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई ।
कमल नयन पूजन चहं सोई ॥

कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर ।
भए प्रसन्न दिए इच्छित वर ॥

जय जय जय अनन्त अविनाशी ।
करत कृपा सब के घटवासी ॥

दुष्ट सकल नित मोहि सतावै ।
भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै ॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो ।
येहि अवसर मोहि आन उबारो ॥

लै त्रिशूल शत्रुन को मारो ।
संकट से मोहि आन उबारो ॥

मात-पिता भ्राता सब होई ।
संकट में पूछत नहिं कोई ॥

स्वामी एक है आस तुम्हारी ।
आय हरहु मम संकट भारी ॥

धन निर्धन को देत सदा हीं ।
जो कोई जांचे सो फल पाहीं ॥

अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी ।
क्षमहु नाथ अब चूक हमारी ॥

शंकर हो संकट के नाशन ।
मंगल कारण विघ्न विनाशन ॥

योगी यति मुनि ध्यान लगावैं ।
शारद नारद शीश नवावैं ॥

नमो नमो जय नमः शिवाय ।
सुर ब्रह्मादिक पार न पाय ॥

जो यह पाठ करे मन लाई ।
ता पर होत है शम्भु सहाई ॥

ॠनियां जो कोई हो अधिकारी ।
पाठ करे सो पावन हारी ॥

पुत्र हीन कर इच्छा जोई ।
निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई ॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे ।
ध्यान पूर्वक होम करावे ॥

त्रयोदशी व्रत करै हमेशा ।
ताके तन नहीं रहै कलेशा ॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे ।
शंकर सम्मुख पाठ सुनावे ॥

जन्म जन्म के पाप नसावे ।
अन्त धाम शिवपुर में पावे ॥

कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी ।
जानि सकल दुःख हरहु हमारी ॥

||दोहा||

नित्त नेम कर प्रातः ही,पाठ करौं चालीसा ।
तुम मेरी मनोकामना,पूर्ण करो जगदीश ॥

मगसर छठि हेमन्त ॠतु,संवत चौसठ जान ।
अस्तुति चालीसा शिवहि,पूर्ण कीन कल्याण ॥

|| श्री शिव चालीसा सम्पूर्ण ||

निष्कर्ष

 

अंत में, शिव चालीसा भगवान शिव की भक्ति और स्तुति का एक कालातीत भजन है, जो दुनिया भर में लाखों भक्तों के दिलों में गूंजता है। इसके गहन श्लोक साधकों को आध्यात्मिकता के मार्ग पर प्रेरित, उत्थान और मार्गदर्शन करते रहते हैं। Shiv Chalisa In Hindi Pdf को आप निचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं। 

 

शिव चालीसा के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न(FAQ)

 

क्या शिव चालीसा का पाठ केवल हिंदी में ही किया जाता है?

नहीं, शिव चालीसा का विभिन्न भाषाओं में अनुवाद किया गया है, जिससे विभिन्न भाषाई पृष्ठभूमि के लोगों को इसका पाठ करने की अनुमति मिलती है।

 

क्या कोई शिव चालीसा का पाठ कर सकता है?

हां, शिव चालीसा का पाठ कोई भी व्यक्ति कर सकता है जो भगवान शिव का आशीर्वाद और कृपा चाहता है, चाहे उनकी उम्र, लिंग या धार्मिक संबद्धता कुछ भी हो।

 

शिव चालीसा का पाठ करने में कितना समय लगता है?

शिव चालीसा का पाठ करने में औसतन 15 से 20 मिनट का समय लगता है, जो पाठ की गति पर निर्भर करता है।

 

शिव चालीसा का पाठ करने का सबसे अच्छा समय क्या है?

भक्त अक्सर सुबह के समय या शाम को अपनी दैनिक प्रार्थना के हिस्से के रूप में शिव चालीसा का पाठ करते हैं।

 

क्या शिव चालीसा का पाठ स्वास्थ्य या फायदे जैसे विशिष्ट उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है?

हाँ, भक्त अक्सर विशिष्ट इरादों के साथ शिव चालीसा का पाठ करते हैं, स्वास्थ्य, समृद्धि और आध्यात्मिक विकास सहित अपने जीवन के विभिन्न पहलुओं के लिए आशीर्वाद मांगते हैं।

Shiv Chalisa In Hindi Pdf को कहा से डाउनलोड करें ? 

Shiv Chalisa In Hindi Pdf को आप वेबसाइट pdfsewa.in से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

Also Read – 

माँ बाप की गलती बच्चो को भुगतनी पड़ती है | Hindi Story Book PDF | Mstram Best Hindi Story

Lakshmi Chalisa PDF | Shree Laxmi Chalisa Hindi | लक्ष्मी चालीसा Free Download Pdf

Hanuman Chalisa In Hindi PDF Free Download | हनुमान चालीसा हिंदी में

 

Parivarik emotional hindi story

Leave a Comment