Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf 2023 ,श्रीमद भागवत महापुराण गीता प्रेस गोरखपुर pdf Free Download ,

दोस्तों अगर आप Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf को डाउनलोड करना चाहते है तो आज के लेख में हम श्रीमद भागवत महापुराण गीता प्रेस गोरखपुर के द्वारा प्रकाशित पीडीऍफ़ को देने वाले हैं जिसे आप इस लेख के निचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं। ये pdf पूरी तरह से निःशुल्क है।

Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf हिन्दू धर्म का एक बहुत ही प्राचीन ग्रन्थ है जिसमे श्री कृष्ण और उनके शिष्य उद्धव के बीच के संवाद के रूप में लिखा गया है। इसके अलावा श्रीमद भागवद महापुराण में श्री कृष्ण के सभी लीलाओ का भी वर्णन किया गया है। इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आप श्रीमद भागवत महापुराण के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेंगे तथा इसका पीडीऍफ़ भी निचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।

Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf Overview

PDF का नामShrimad Bhagwat Mahapuran pdf
पेज संख्या1617
PDF size10.5 MB
भषाहिंदी /संस्कृत
PDF Categoryधार्मिक
PDF Creditगीता प्रेस, गोरखपुर
PDF Download13 मई

श्रीमद भागवत महापुराण क्या है ?

श्रीमद् भागवत महापुराण हिंदू धर्म का एक पवित्र और सबसे पुराना ग्रंथ है इस ग्रन्थ में हिंदू धर्म के सबसे पूजनीय देवताओं में से एक भगवान कृष्ण से संबंधित कहानियां और लीलाएं हैं। श्रीमद् भागवत महापुराण सबसे महत्वपूर्ण पुराणों में से एक माना जाता है, जो प्राचीन हिंदू ग्रंथों का संग्रह है।

श्रीमद् भागवत महापुराण को बारह स्कंधों (पुस्तकों) में विभाजित किया गया है, और इसमें 18,000 से अधिक श्लोक हैं। एक मान्यता के अनुसार इसे महान ऋषि वेद व्यास ने लिखा था, वही ऋषि जिन्होंने महाभारत और कई अन्य महत्वपूर्ण हिंदू ग्रंथों को लिखा था।इसे मूल रूप से संस्कृत भाषा में लिखा गया है। 

श्रीमद् भागवत महापुराण पुस्तक भगवान कृष्ण के जीवन के इर्द-गिर्द संरचित ग्रन्थ है, और इसमें उनके बचपन से संबंधित कहानियाँ और शिक्षाएँ, ग्वालों (गोपियों) के लिए उनका प्रेम, राक्षसों के साथ उनकी लड़ाई, उनके शिष्य अर्जुन को उनकी शिक्षाएँ और दुनिया से उनकी विदाई शामिल है।

श्रीमद् भागवत महापुराण को आध्यात्मिक ज्ञान का स्रोत माना जाता है और अक्सर इसका उपयोग हिंदू विद्वानों और शिक्षकों द्वारा अपने छात्रों को मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए किया जाता है। यह हिंदू भक्तों द्वारा भी व्यापक रूप से पढ़ा जाता है, जो इसे आध्यात्मिक ज्ञान और मुक्ति प्राप्त करने का एक साधन मानते हैं। Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf को आप निचे दिए गए लिंक से जरूर डाउनलोड कर लें।

श्रीमद भागवत महापुराण हमें क्यों पढ़ना चाहिए ?

पवित्र हिन्दू ग्रंथ श्रीमद् भागवत महापुराण को पढ़ने के कई कारण हैं। कुछ मुख्य कारण यहाँ दिया गया है। 

आध्यात्मिक मार्गदर्शन: श्रीमद् भागवत महापुराणग्रन्थ आध्यात्मिक मार्गदर्शन और ज्ञान का एक स्रोत है जो लोगों को अधिक पूर्ण और सार्थक जीवन जीने में मदद कर सकता है। श्रीमद् भागवत महापुराण में ऐसी कहानियाँ और शिक्षाएँ हैं जो लोगों को भक्ति, करुणा और धार्मिकता का जीवन जीने के लिए प्रेरित करती हैं।इसके अलावा श्रीमद् भागवत महापुराण आध्यात्मिक मुक्ति का मार्ग सिखाता है।

धार्मिक भक्ति: हिंदुओं के लिए, भागवत महापुराण एक पवित्र ग्रंथ है जिसे दिव्य ज्ञान के अवतार के रूप में माना जाता है। इसे आध्यात्मिक मुक्ति और ज्ञान प्राप्ति का साधन माना जाता है। श्रीमद् भागवत महापुराण का पढ़ना ईश्वर के प्रति समर्पण व्यक्त करने और अपनी साधना को गहरा करने का एक तरीका है।

सांस्कृतिक विरासत: श्रीमद् भागवत महापुराण ग्रन्थ भारत की सांस्कृतिक विरासत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह सबसे व्यापक रूप से पढ़े जाने वाली हिंदू ग्रंथों में से एक है। श्रीमद् भागवत महापुराण पढ़ना भारत की सांस्कृतिक और आध्यात्मिक विरासत से जुड़ने का एक तरीका है।

अकादमिक अध्ययन: श्रीमद् भागवत महापुराण प्राचीन हिंदू संस्कृति, धर्म और दर्शन के बारे में जानकारी का एक मूल्यवान स्रोत है। विद्वान और शोधकर्ता हिंदू धर्म में शोध करने और भारतीय समाज और संस्कृति पर इसके पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन करने के लिए इसका पाठ करते हैं। 

इसके अलावावा  श्रीमद्भागवत पुराण पढने से हमे यह शिक्षा भी  मिलती है कि जब कोई आप का साथ छोड़ तो भी परमात्मा कभी भी आप को नहीं छोड़ते तथा भगवन कृष्ण जी आपके सभी दुखो का पहाड़ उठा लेते हैं। तथा श्रीमद् भागवत महापुराण  ज्ञान का एक समृद्ध स्रोत है जिसने लोगों की पीढ़ियों को प्रेरित और प्रभावित किया है। Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf को निचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।

Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf

श्रीमद भागवत महापुराण के महत्वपूर्ण श्लोक

श्रीमद् भागवत महापुराण के प्रमुख श्लोक निम्न हैं। 

1 – “वासुदेव सुतम देवम, कंस चनूर मर्दनम

देवकी परमानंदम, कृष्णम वंदे जगद्गुरुम”

हिंदी अनुवाद : “मैं वासुदेव के पुत्र भगवान कृष्ण को अपना नमस्कार अर्पित करता हूं, जिन्होंने कंस और चनूर को हराया, और अपनी मां देवकी को सर्वोच्च आनंद दिया, और जो दुनिया के आध्यात्मिक शिक्षक हैं।”

इस श्लोक को अक्सर भगवान कृष्ण के प्रति भक्ति व्यक्त करने और उनका आशीर्वाद लेने के तरीके के रूप में सुनाया जाता है। यह भगवान कृष्ण के जीवन और शिक्षाओं के कुछ प्रमुख पहलुओं पर प्रकाश डालता है, जिसमें एक योद्धा के रूप में उनकी भूमिका, उनकी मां के प्रति समर्पण और मानवता के लिए एक आध्यात्मिक मार्गदर्शक के रूप में उनकी स्थिति शामिल है।

2 – “कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन,

मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते संगो स्तवकर्मणि।” (अध्याय 2, श्लोक 47)

हिंदी अनुवाद: ” इस श्लोक के अनुसार आपको अपने कर्म करने का अधिकार है, लेकिन आप अपने कर्मों के फल के हकदार नहीं हैं। तथा कर्म के अनुसार मिलने वाले फल को अपने कार्यों का उद्देश्य न बनने दें, और इसलिए आप अपने कर्तव्य को न करने के प्रति आसक्त नहीं होंगे। “

यह पद उन कार्यों के परिणामों से जुड़े बिना किसी के कर्तव्य को करने के महत्व को सिखाता है। यह इस विचार पर जोर देता है कि हमारे कार्यों को कर्तव्य से प्रेरित होना चाहिए न कि व्यक्तिगत लाभ की इच्छा से।

3 – “सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयः

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद दुःख भाग भवेत।” (अध्याय 10, श्लोक 36)

हिंदी अनुवाद: “सभी प्राणी सुखी हों, सभी प्राणी रोगमुक्त हों। सभी अपने जीवन में मंगल देखें और किसी को कष्ट न हो।”

यह श्लोक सभी प्राणियों/व्यक्तियों के प्रति दया और दया के महत्व पर प्रकाश डालता है। यह हमें सभी जीवित प्राणियों के कल्याण की कामना करना और एक ऐसी दुनिया बनाने की दिशा में काम करना सिखाता है जो कि पीड़ा से मुक्त हो।

4 – “यद यदा ही धर्मस्य ग्लानिर भवति भारत,

अभ्युत्थानम अधर्मस्य तदत्मानम सृजाम्य अहम्।” (अध्याय 4, श्लोक 7)

हिंदी अनुवाद: “हे अर्जुन, जब-जब धर्म का ह्रास होता है और अधर्म का उदय होता है, तब-तब मैं इस संसार में प्रकट होता हूँ।”

यह श्लोक भगवान कृष्ण द्वारा बोला गया है और इस विचार पर जोर देता है कि जब भी दुनिया में धार्मिकता का नुकसान होगा, तब तब वह प्रकट होंगे। यह हमें ईश्वर में आस्था रखना और यह विश्वास करना सिखाता है कि इस संसार में संतुलन और सद्भाव बहाल करने के लिए हमेशा एक उच्च शक्ति काम कर रही है।

5 – “सत्यं परम धीमहि” (अध्याय 12, श्लोक 13)

हिंदी अनुवाद: “हम परम सत्य पर ध्यान देंना चाहिए ।”

यह श्लोक हमें परम सत्य पर ध्यान केंद्रित करने और परमात्मा के ज्ञान और समझ की तलाश करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

६- “वासुदेवः सर्वमिति स महात्मा सुदुर्लभः” (अध्याय 7, श्लोक 19)

हिंदी अनुवाद : “वह वास्तव में एक महान आत्मा है जो सभी में वासुदेव (भगवान) को देखता है।”

यह श्लोक हमें सभी जीवित प्राणियों में दिव्य उपस्थिति को पहचानने और दूसरों के साथ सम्मान, दया और करुणा के साथ व्यवहार करने की शिक्षा देता है। क्युकी भगवन तो हमारे सभी तरफ कण कण में हैं। 

7 – “अहो बाकी यम स्तना-काल-कुटम जिघमसायपयद अपि असाध्वी

लेभे गतिं धात्री-उसीताम ततो ‘न्याम कम व दयालुम शरणं व्रजेमा।” (अध्याय 3, श्लोक 31)

हिंदी अनुवाद: “काश, मैं उस से भी अधिक दयालु की शरण कैसे ले सकता हूँ जिसने एक राक्षसी [पुतना] को माँ का पद प्रदान किया, हालाँकि वह बेवफा थी और उसने अपने स्तन से चूसने के लिए घातक जहर तैयार किया था?”

यह छंद रानी कुंती द्वारा बोला गया है और भगवान कृष्ण की असीम दया और करुणा पर प्रकाश डालता है। यह हमें ईश्वर की शरण में जाना और यह विश्वास रखना सिखाता है कि बड़े से बड़े पाप को भी क्षमा किया जा सकता है और उसका प्रायश्चित किया जा सकता है।

ये श्रीमद् भागवत महापुराण के कई महत्वपूर्ण श्लोकों के कुछ उदाहरण हैं जो मूल्यवान शिक्षाओं और अंतर्दृष्टि को व्यक्त करते हैं। Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf में आपको सभी श्लोक उसके अर्थ के साथ मिल जायेंगे जिसे आप निचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर हैं।

Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf Download

Summary /सारांश

दोस्तों आज के लेख में आपको श्रीमद भागवत महापुराण के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी तथा आपको श्रीमद भागवत महापुराण के कुछ महत्वपूर्ण श्लोक और उसके अर्थ भी दिए गए है इसके अलावा Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf भी ऊपर दिया हुआ है जिसे आप अपने मोबाइल में डाउनलोड कर सकते है।

अगर आपको इस लेख में दी गई जानकारी से कोई भी समस्या है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में सवाल ज़रूर पूछे। आपके सवालो का जवाब देने की पूरी कोशिश की जाएगी। अगर आपको ये लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को जरूर शेयर कर दे। धन्यवाद

DMCA /Copyright

इस वेबसाइट पर दिया गया पीडीऍफ़ का www.pdfsewa.in का कोई भी हक़ नहीं है और हम इस पीडीऍफ़ के owner भी नहीं है। ये पीडीऍफ़ public /open प्लेटफॉर्म से ली गई है तथा केवल एजुकेशन के लिए अपलोड की गई है। अगर आपको इस पीडीऍफ़ से कोई भी समस्या हो तो आप हमें मेल ज़रूर करें। हम इस पीडीऍफ़ को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

FAQ About Shrimad Bhagwat Mahapuran pdf

श्रीमद भागवत महापुराण में कितने अध्याय और श्लोक हैं ?

Shrimad Bhagwat Mahapuran में कुल 12 स्कंध (skandha) हैं और उनमें कुल 335 अध्याय (adhyay) और लगभग 14,000 श्लोक (shlok) हैं। यह पुराण वेद-पुराणों में सर्वोच्च माना जाता है और भगवान विष्णु की महिमा, उनके अवतारों और उनकी लीलाओं पर विस्तृत वर्णन करता है

श्रीमद् भागवत कथा के रचयिता कौन है?

श्रीमद् भागवत कथा के रचियता वेद व्यास जी हैं


भागवत पुराण किस भगवान के बारे में बोलता है?

श्रीमद भागवत महापुराण भगवान विष्णु के विभिन्न अवतारों और लीलाओ के बारे में है।

shrimad bhagwat mahapuran pdf कहा से प्राप्त करें ?

shrimad bhagwat mahapuran pdf को आप pdfsewa.in वेबसाइट से निःशुल्क में डाउनलोड कर सकते हैं।

श्रीमद् भागवत महापुराण हिंदी pdf

श्रीमद भागवत महापुराण हिंदी pdf को आप pdfsewa वेबसाइट से प्राप्त कर सकते है जिसमे श्रीमद भगवत महापुराण के बारे में विस्तार से चर्चा की गई है।

Leave a Comment